Sale!
Mangal Rahu Angarak Dosha Puja ( मंगल राहु अंगारक दोष पूजा )

Mangal Rahu Angarak Dosha Puja ( मंगल राहु अंगारक दोष पूजा )

  •  अंगारक दोष के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है।
  • यह पूजा मंगल के दुष्प्रभावों को कम करने और गुस्से को प्रबंधित करने में मदद करती है और आपको शांत रहने में मदद करता है।
  • सद्भाव बनाए रखता है और पारिवारिक विवादों को रोकता है।
  • यह आपको अपने रिश्ते को तनाव मुक्त बनाने में मदद करता है।
  • मन की स्पष्टता हासिल करने में मदद करता है और प्रभावी निर्णय लेने में आपकी मदद करता है।
  • आपके मानसिक फोकस में सुधार करता है।
  •  आपके संकल्प के आधार पर निजीकृत पूजा।
  • लाइव वैदिक पूजा में शामिल हों
  •  वैदिक पंडितों की विशेषज्ञ टीम
  •  आपकी सुविधानुसार प्रामाणिक ऑनलाइन पूजा

41,999

वैदिक ज्योतिष के अनुसार जन्म कुंडली में मंगल और राहु का एक ही घर में स्थिति होना अंगारक दोष को जन्म देता है। अंगारक शब्द का अर्थ आग या अंगारे से है जो मंगल का स्वभाव है। परिणामस्वरूप, मंगल और राहु के प्रतिकूल प्रभाव से प्रभावित लोगों को क्रोधी, पित्त प्रवृत्ति, दुर्घटना, रक्त संबंधी रोग और त्वचा की समस्याओं का सामना कर पड़ सकता है।

मंगल – राहु अंगारक दोष अपने स्थान और संयोजन की डिग्री के आधार पर अलग – अलग परिणाम देता है। अपने आक्रामक स्वभाव और जल्दबाजी में लिए गए फैसलों के कारण उन्हें अपने करियर और रिश्तों में कई बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। दोष के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए मंगल राहु अंगारक दोष निवारण पूजा सबसे प्रभावी वैदिक विधि है।

  •  राहु मंगल अंगारक दोष तब होता है जब मंगल कुंडली में किसी भी घर में राहु के युति बना का बैठा होता है।
  •  वैदिक ज्योतिष में राहु मंगल अंगारक दोष को अशुभ माना जाता है। जब किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु मंगल अंगारक दोष या अंगारक योग होता है, तो हानिकारक ग्रहों के प्रभाव बढ़ जाते हैं। इसके विपरीत शुभ ग्रहों के शुभ प्रभाव कम होते हैं।
  •  चूंकि मंगल ग्रहों का सेनापति और अग्नि से जुड़ा एक योद्धा ग्रह है, इसलिए अंगारक दोष से पीड़ित व्यक्ति अत्यधिक आक्रामक और अक्सर हिंसक होता है।
  •  जिस व्यक्ति की कुंडली में राहु मंगल अंगारक दोष होता है, वह अक्सर हर चीज के प्रति नकारात्मक विचार और दृष्टिकोण रखता है, जिसके परिणामस्वरूप रिश्ते तनावपूर्ण होते हैं।
  •  उन्हें जीवन में अप्रत्याशित दुर्घटनाओं, नुकसान और दुर्भाग्य का सामना करना पड़ता हैं। अंगारक दोष के कारण धन की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  •  कुंडली में अंगारक दोष के हानिकारक प्रभावों की गंभीरता दोष के लिए जिम्मेदार घर के आधार पर भिन्न होती है।
  •  अंगारक दोष निवारण पूजा अंगारक दोष के हानिकारक प्रभावों से छुटकारा दिलाती है और स्वास्थ्य, धन, समृद्धि और मन की शांति प्रदान करती है।

मंगल राहु अंगारक दोष पूजा कैसे काम करती है?

अंगारक दोष निवारण पूजा में प्रधान – देवता राहु और मंगल की पूजा सहित अन्य पांच आवश्यक देवताओं, अर्थात् गणेश, शिव, मातृका और नवग्रह शामिल हैं। पूजा में मंगल बीज मंत्र का 10,000 बार और राहु बीज मंत्र 18,000 बार जाप करना शामिल है।

  • इसके बाद एक हवन अनुष्ठान किया जाता है जिसमें घी, सीसम, जौ और भगवान मंगल और राहु से जुड़ी अन्य पवित्र सामग्री को 1,000 मंगल मंत्रों और 1,800 राहु मंत्रों का पाठ करते हुए अग्नि को अर्पित किया जाता है।
  • आपकी कुंडली में मौजूद अंगारक दोष के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए यज्ञ व होम एक आवश्यक ज्योतिषीय उपाय है।
  • सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए पूजा निकटतम सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त पर, यानी राहु या मंगल नक्षत्र में और मंगलवार या बुधवार के दिन की जाएगी। 
  •  वैदिक पूजा My Pandit के विद्वान और मंगल राहु अंगारक दोष पूजा के अपार ज्ञान के साथ 5 पंडितों के एक समूह द्वारा पूरी की जाएगी इस पूरी पूजा प्रक्रिया का नेतृत्व एक गुरु पंडित करेंगे।

शिपिंग डीटेल

पूजा के बाद यंत्र, यज्ञ भस्म और पेंडेंट को कूरियर सेवा के माध्यम से आपके द्वारा उपलब्ध पते पर पहुंचा दिया जाता है। इन वस्तुओं की डिलीवरी भारत में 5 से 10 कार्य दिवस और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग 10 से 15 कार्य दिवस में प्राप्त हो जाती हैं।

पूजा कैसे होगी?

पूजा निम्नलिखित तरीके से की जाएगी:- 

  • आपके द्वारा  मंगल राहु अंगारक दोष पूजा के लिए बुकिंग करने के बाद आपकी पूजा से संबंधित संपूर्ण जानकारी वरिष्ठ आचार्य से साझा की जाएगी।
  •   इसके बाद आचार्य आपकी निजीकृत पूजा के लिए एक उपयुक्त पंडित का चुनाव करेंगे और उचित समय का निर्धारण करेंगे। आपकी पूजा के लिए चयनित पंडित निर्धारित समय पर सिर्फ आपके लिए ही पूजा करेंगे।
  •  आपके लिए निर्धारित पंडित के साथ आपकी संपूर्ण जानकारी साझा की जाएगी, जिसके आधार पर वे आपकी पूजा के अनुसार पूजा संकल्प तैयार करेंगे। पूजा संकल्प किसी भी वैदिक पूजा का सबसे महत्वपूर्ण अंग है, यह आपकी वांछित इच्छा को पूरा करता है। पूजा शुरू होने के पहले आपको एक फोन काॅल के माध्यम से पंडित जी के साथ जोड़ा जाएगा, जो आपको पूजा संकल्प दिलवाएंगे।
  •  यहीं से पूजा की शुरुआत होगी। आप गूगल मीट के माध्यम से इस पूजा में शामिल हो सकते हैं। जब पंडित जी पूजा कर रहे होंगे तब आपको अपने घर या मंदिर में किसी शांत स्थान पर बैठकर ओम नमः शिवाय मंत्र का निरंतर जाप करना होगा।
  •  पूजा संपन्न होने के बाद पंडित जी द्वारा आपको पुनः काॅल किया जाएगा, और पूजा के दौरान एकत्र की गई सकारात्मक ऊर्जा आपको हस्तांतरित कर दी जाएगी। इस पद्धति को श्रेय दान या संकल्प पूर्ति के नाम से जाना जाता है। इस प्रक्रिया के बाद पूजा संपन्न हो जाती है।

क्या मेरी शारीरिक उपस्थिति की आवश्यकता होगी?

नहीं, इस प्रक्रिया की खूबसूरती यही है कि पूजा करते समय आपको शारीरिक रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।

इस पूजा को करने के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

 मंगल राहु अंगारक दोष पूजा करने के लिए हमें आपसे निम्नलिखित की जानकारियों की आवश्यकता होगी।

  •  पूरा नाम,
  •  गोत्र (अनिवार्य नहीं)
  •  निवास का वर्तमान शहर, राज्य, देश और 
  • उद्देश्य का विवरण(पूजा क्यों कर रहे हैं) ।

मंगल राहु अंगारक दोष पूजा कितनी देर चलेगी?

आम तौर पर, इसमें लगभग 5 से 6 घंटे लगते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए जाप करने की सलाह दी जाती है।

आप मेरे लिए पूजा को कैसे निजीकृत करते हैं?

हम आपके लिए पूजा को निम्नलिखित तरीके से निजीकृत करते हैं – 

  •  आपकी पूजा करने के लिए एक समर्पित पंडितजी को आवंटित किया जाता है। लगभग 5 से 6 घंटे तक वह केवल आपके लिए पूजा करते हैं। 
  • आप गूगल मीट के जरिए भी इस पूजा में लाइव शामिल हो सकते हैं। आपके द्वारा दिया गया उद्देश्य का कथन संकल्प का आधार है जिसे आपके पंडित जी आपकी पूजा शुरू होने से पहले आपको उच्चारित करने के लिए कहते हैं। 
  •  पूजा के अंत में, आपको प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न आध्यात्मिक ऊर्जा को हस्तांतरित करने के लिए एक और फोन काॅल किया जाता है। इस प्रक्रिया को श्रेय दान या संकल्प पूर्ति के रूप में जाना जाता है।

इस पूजा को करने के बाद मैं कब परिणाम की उम्मीद कर सकता हूं?

मंगल राहु अंगारक दोष पूजा एक शक्तिशाली अनुष्ठान है जो बहुत सारी सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करता है। आपके “संकल्प” या उद्देश्य के कथन की शक्ति इसकी प्रभावशीलता को प्रभावित करती है। जब यह पूजा पूरी लगन और आत्मविश्वास के साथ की जाती है, तो आप 2 से 3 महीने में परिणाम की उम्मीद कर सकते हैं।

क्या मैं यह पूजा नियमित रूप से कर सकता हूं?

हां, यह पूजा मुख्य रूप से निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए नियमित रूप से की जा सकती है – 

  •  यदि संकल्प या उद्देश्य का कथन बहुत बड़ा है, तो आपके रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए आपको पर्याप्त आध्यात्मिक ऊर्जा देने के लिए केवल एक पूजा पर्याप्त नहीं हो। वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको मासिक आधार पर पूजा दोहरानी पड़ सकती है।
  •  यदि ग्रहों की युति के नकारात्मक प्रभाव बहुत अधिक हों, तो आध्यात्मिक ऊर्जा की आवश्यकता अधिक होती है और उस स्थिति में भी पूजा की जा सकती है ।
  •  यदि आपकी जन्म कुंडली में कोई दोष या नकारात्मक प्रभाव है, तब तो वार्षिक आधार पर की जाने वाली पूजा भी आपके लिए अद्भुत काम कर सकती है। 
  • आपकी स्थिति के आधार पर, परिणाम प्राप्त करने में कुछ महीने लग सकते हैं, लेकिन इसे नियमित रूप से करने से आपके लिए एक सकारात्मक रक्षक कवच का निर्माण होता है।

क्या पूजा करना रत्न, यंत्र या रुद्राक्ष जैसे अन्य उपायों से बेहतर है?

सामान्यतया, रत्न और रुद्राक्ष का उद्देष्य आजीवन होता है। जब वे पहने जाते हैं तो वे किसी विशेष ग्रह की शक्ति को बढ़ाते हैं। वहीं पूजा संबंधित ग्रह की ऊर्जा को सही दिशा में पुनर्निर्देशित और वांछित परिणाम प्राप्त करने के साथ ही किसी विशेष उद्देश्य की पूर्ति के लिए की जाती है। रत्न या रुद्राक्ष धारण करने और पूजा करने का संयोजन बहुत शक्तिशाली है, खासकर जब आप एक बड़ा लक्ष्य प्राप्त करना चाहते हैं या प्रतिकूल ग्रहों के संयोजन के नकारात्मक प्रभावों से बचना चाहते हैं।

क्या इस पूजा से मेरे परिवार वालों को भी मदद मिलेगी?

हां, यह आपके परिवार के सदस्यों, पड़ोसियों, दोस्तों, परिचितों, संक्षेप में आप से संबंधित सभी की मदद कर सकती है। हालांकि, पूजा से पहले आपको यह सलाह दी जाती है कि आप आपनी जन्म कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिष द्वारा अच्छे से विश्लेषण करवाएं ताकि यह जांचा जा सके कि विशेष ग्रह शांति पूजा आपके लिए आवश्यक है या नहीं।