Sale!
Ashwini Nakshatra Shanti Puja

Ashwini Nakshatra Shanti Puja

  • अश्विनी नक्षत्र के दुष्प्रभाव को कम करता है।
  • आपके जीवन से बाधाओं को दूर करता है।
  • आपके आत्मविश्वास को बढ़ाता है।
  • जीवन में स्वास्थ्य, धन और समृद्धि प्राप्त करने में मदद करता है।
  • आपके संकल्प के आधार पर निजीकृत पूजा।
  • लाइव वैदिक पूजा में शामिल होइए।
  • वैदिक पंडितों की विशेषज्ञ टीम।
  • आपकी सुविधानुसार प्रामाणिक ऑनलाइन पूजा।

41,999

आपके जन्म के समय चंद्रमा जिस नक्षत्र में स्थित होता है, उसे आपके जन्म नक्षत्र के रूप में जाना जाता है। वैदिक ज्योतिष में, जन्म नक्षत्र किसी के जीवन को आकार देने व उसके व्यक्तित्व को निखारने के लिए आवश्यक होता है। यह महादशा से भी जुड़ा है, जिसका आपके भाग्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। यह आपके दृष्टिकोण, व्यक्तित्व, शारीरिक बनावट और समझशक्ति पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है।

अशुभ नक्षत्रों के तहत जन्म के कारण होने वाले कष्टों और नकारात्मकता को दूर करने के लिए नक्षत्र शांति पूजा की जाती है। यह पूजा उनकी मुख्य अवधि (महादशा) और उप-अवधि (अंतर्दशा) के दौरान नक्षत्र के हानिकारक प्रभाव को बेअसर करने और नक्षत्र के देवता से सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने में आपकी सहायता करेगी।

  • अश्विनी नक्षत्र में जन्म लेने वाला जातक सजावट प्रेमी, आकर्षक, लोकप्रिय, कुशल और बुद्धिमान होता है।
  • अश्विनी नक्षत्र के तहत जन्म लेने वाला व्यक्ति आकर्षक, भाग्यशाली, कुशल, बुद्धिमान, आभूषणों का शौकीन और साहसी होता है।
  • अश्विन देव (जुड़वां घुड़सवार) अश्विनी नक्षत्र पर शासन करते हैं। यह चीजों तक जल्दी पहुंच सकते हैं। यह लोगों के बेहतरीन जीवन की नींव रखते हैं। हीलिंग थेरेपी उनकी नींव के रूप में काम करती है। इनके प्रभाव से सारा विश्व रोग से मुक्त हो जाता है।
  • अश्विनी नक्षत्र त्वरित सहायता और स्फूर्ति से जुड़ा है। ये टिप्पणियां अश्विनी की उपचार शक्ति को प्रदर्शित करती हैं, यह विशेष रूप से तेज, क्रांतिकारी, या चमत्कारी इलाज के साथ-साथ कायाकल्प लाने की क्षमता वाला होता है।  
  • अश्विन प्राण या जीवन-शक्ति का बल है, जो एक नए गतिविधि स्तर को प्रोत्साहित करने, सहायता करने और शुरु करने के लिए शीघ्रता से कार्य करते हैं।

अश्विनी नक्षत्र शांति पूजा कैसे काम करती है?

  • अश्विनी नक्षत्र पूजा की शुरुआत गौ (गाय) पूजा और पंच देव पूजा से होती है, जिसमें गणेश, मातृका, अश्विनी कुमार, नवग्रह और शिव शामिल हैं। पंच कलश पूजा, पुण्य वचनम और नंदी श्राद्ध भी इस पूजा का हिस्सा हैं।
  • वैदिक पुजारियों द्वारा होम (हवन) अनुष्ठान भी किया जाएगा, जिसमें घी, तिल, जौ और अश्विनी नक्षत्र से संबंधित अन्य पवित्र सामग्री अर्पित की जाएगी। इसके साथ ही, विभिन्न वैदिक सूक्तम और मंत्रों का पाठ किया जाता है।
  • हमारी जन्म कुंडली में नक्षत्र के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए यह यज्ञ एक आवश्यक उपाय है।
  • सर्वोत्तम संभव परिणाम प्राप्त करने के लिए “अश्विनी नक्षत्र” के दिन या निकटतम शुभ मुहूर्त पर पूजा की जाएगी।
  • MyPandit के आचार्य के नेतृत्व में एक 4 से 5 पुजारियों की एक टीम नियुक्त की जाएगी, जो शुभ मुहूर्त के दौरान इस पूजा को पूरा कराएंगे।

परिवहन विवरण

हमारे सभी शिपमेंट प्रतिष्ठित कूरियर सेवाओं के माध्यम से भेजे जाते हैं,जो पहुंचने में भारत के भीतर 3 से 7 वर्किंग डेज़ और अंतरराष्ट्रीय शिपिंग के लिए 7 से 15 वर्किंग डेज़ लेते हैं।

*कुछ उत्पादों में एक संबद्ध छवि या फ़ोटो हो सकती है। ये केवल संदर्भ के लिए हैं और इन्हें उत्पाद का उदाहरण मात्र माना जाना चाहिए।

क्या अश्विनी नक्षत्र अच्छा है?

अश्विनी नक्षत्र गति से जुड़ा हुआ है, इसलिए कुछ भी नया शुरू करने के लिए यह एक शुभ नक्षत्र है। इससे जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है। आप किसी भी नई यात्रा की शुरुआत कर सकते हैं। मंगल को फल देने वाले वृक्षों से भी जोड़ा जाता है, इसलिए इस नक्षत्र में कृषि कार्य शुरू हो सकते हैं।

शांति के लिए कौन सा नक्षत्र आवश्यक है?

अश्लेषा नक्षत्र पूजा अश्लेषा नक्षत्र की सकारात्मकता और शक्ति को बढ़ा सकती है। परिणामस्वरूप, अश्लेषा नक्षत्र व्यक्ति पर अपना अधिक आवृत्ति के साथ और ज्यादा लाभकारी प्रभाव प्रदान करेगा।

हमें मूल शांति पूजा कब करनी चाहिए?

यह पूजा किसी भी उपयुक्त दिन पर की जा सकती है, लेकिन यह विशेष रूप से अच्छा है, यदि बच्चे के जन्म के सत्ताईसवें दिन इस पूजा को कराया जाए।

कौन सा नक्षत्र जन्म के लिए भयानक है?

मूल नक्षत्र सबसे अधिक द्वेषपूर्ण होता है, इसलिए इसके तहत पैदा होने वाले बच्चे के बचने की संभावना कम होती है। मूल-1 के तहत जन्म पिता के लिए खतरनाक है, जबकि मूल-2 के तहत जन्म मां के लिए खतरनाक है।