Sale!
Ashlesha Nakshatra Shanti Puja ( अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा )

Ashlesha Nakshatra Shanti Puja ( अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा )

  • अश्लेषा नक्षत्र के हानिकारक प्रभावों को कम करें।
  • अपने जीवन से बाधाओं को दूर करें और आत्मविश्वास में वृद्धि करें।
  • बुध महादशा के दौरान सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने में मदद करता है।
  • जीवन में स्वास्थ्य, धन और समृद्धि प्राप्त करने में मदद करता है।
  • आपके संकल्प के आधार पर निजीकृत पूजा
  • लाइव वैदिक पूजा में शामिल होने का मौका
  • वैदिक पंडितों की विशेषज्ञ टीम
  • आपकी सुविधानुसार प्रामाणिक ऑनलाइन पूजा

41,999

जन्म नक्षत्र (बर्थ स्टार) सितारों का वह समूह है जिसमें आपके जन्म के समय चंद्रमा स्थित होता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, जन्म नक्षत्र व्यक्ति के भविष्य को आकार देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा जन्म नक्षत्र का संबंध आपकी महादशा से भी होता है, जो जीवन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है।

हमारे जन्म नक्षत्र का प्रभाव हमारे सोचने की क्षमता, दृष्टिकोण और व्यक्तित्व पर महत्वपूर्ण रूप से देखने को मिलता है। यह हमारी प्रवृत्ति और हमारे व्यक्तित्व के अवचेतन पहलुओं को भी प्रभावित करता है। अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा का प्रभाव हमारे जन्म नक्षत्र से संबंधित सभी पहलुओं को हमारे पक्ष में करने का कार्य करती है। 

वैदिक ज्योतिष के अनुसार अश्लेषा नक्षत्र का चिह्न सर्प है। इसके स्वामी नाग देवता है। सांप कुंडलिनी ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है, जो अश्लेषा का असली सार है। 

– अश्लेषा जहर, धोखे, अंतर्ज्ञान, अंतर्दृष्टि और कामुकता की शक्ति का प्रतीक है।

– यह नक्षत्र आदिम प्रकृति का प्रतिनिधित्व करता है और पिछले जन्मों और आनुवंशिक विरासत से जुड़ा हुआ है।

– अश्लेषा नक्षत्र की प्रवृत्ति को समझना एक बेहद जटिल कार्य है, क्योंकि यह रहस्यमय और संदिग्ध है। इस नक्षत्र के तहत पैदा हुए लोग अक्सर उत्सुकता से भरे चीजों की तह तक जाने वाले होते हैं। उनके पास खतरे को भांपने की गहरी समझ होती है और वे परिवार और दोस्तों की सुरक्षा करते हैं।

– अश्लेषा राशि के तहत पैदा हुए लोगों को भोजन की तीव्र इच्छा होती है और वे किसी भी प्रकार की भूख को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं।

अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा कैसे काम करती है?

– अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा अपनी ग्रहों के सामान्य और मुख्य दशा के दौरान उनके नकारात्मक प्रभावों को कम करने का कार्य करती है। 

– नक्षत्र पूजा की शुरुआत गौ पूजा अर्थात गाय की पूजा और पंच देव पूजा से शुरू होती है। इन दोनों पूजाओं के माध्यम से  गणेश, मातृका, नक्षत्र देवता, सर्प देवता, नवग्रह और भगवान शिव की मुख्य रूप से पूजा की जाती है।

– अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा के अगले चरण में वैदिक पुजारी होम और यज्ञ का आयोजन करते हैं, जिसमें विभिन्न मंत्रों और वैदिक सूक्त का जाप करते हुए घी, तिल, जौ और अन्य पवित्र सामग्री की आहुति शामिल होती है।

आपकी जन्मकुंडली से नक्षत्र के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए होम यानी हवन एक आवश्यक प्रक्रिया है।

– पूजा का अतिरिक्त लाभ प्राप्त करने के लिए ज्येष्ठा नक्षत्र के दिन श्रेष्ठ मुहूर्त में पूजा की जाएगी।

– पूजा माय पंडित द्वारा नियुक्त 5 पुजारियों और आचार्य की देखरेख में अश्लेषा नक्षत्र शांति पूजा के अपार ज्ञान के साथ की जाती है।

शिपिंग डीटेल

पूजा के बाद यंत्र, यज्ञ भस्म और पेंडेंट को कूरियर सेवा के माध्यम से आपके द्वारा उपलब्ध पते पर पहुंचा दिया जाता है। इन वस्तुओं की डिलीवरी भारत में 5 से 10 कार्य दिवस और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग 10 से 15 कार्य दिवस में प्राप्त हो जाती हैं।

अश्लेषा नक्षत्र में जन्मे लोगों के साथ क्या समस्या हो सकती है?

यदि अश्लेषा नक्षत्र में जन्मे लोगों को मार्गदर्शन देने के लिए सही व्यक्ति न मिले तो वे अवसाद के शिकार हो सकते हैं। अश्लेषा नक्षत्र के तहत पैदा हुए लोग अन्य नक्षत्र के तहत पैदा हुए लोगों की तुलना में अधिक आसानी से भटक सकते हैं। वे एकांतप्रिय, सराहना न करने वाले, कुंठित और बाकी दुनिया से कटे हो सकते हैं।

क्या अश्लेषा एक बुरा नक्षत्र है?

अश्लेषा नक्षत्र को आमतौर पर एक प्रतिकूल प्रभाव देने वाला नक्षत्र माना जाता है। हालांकि इस संबंध में हमारा ज्ञान पौराणिक धर्मग्रंथ और वैदिक ज्योतिष के कुछ नियमों पर टिका हुआ है। भारतीय दर्शन के अनुसार अश्लेषा नक्षत्र से संबंधित जानकारियां हमारे सामने एक दार्शनिक उद्धरण पेश करती हैं। इन उद्धरण के अनुसार अश्लेषा सर्प ऊर्जा का उत्सर्जन करती है और दूसरों में भय पैदा करती है।

हमें मूल शांति पूजा कब करनी चाहिए?

सामान्यतः मूल शांति पूजा किसी भी उपयुक्त दिन पर की जा सकती है, लेकिन यह विशेष रूप से अच्छा होगा यदि यह पूजा मूल में जन्म के 27वें दिन की जाए।

क्या अश्लेषा नक्षत्र विवाह के लिए हानिकारक है?

हरगिज़ नहीं! यदि अश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वाली लड़की से शादी करना खतरनाक होता, तो महीने के किसी एक दिन जब चंद्रमा अश्लेषा के माध्यम से गोचर करता है, उस दिन जन्म लेने वाली सभी महिलाएं खतरनाक होती। इसलिए अष्लेषा में जन्म लेने वाले किसी व्यक्ति से विवाह हानिकारक नहीं है।