Sale!
सूर्य राहु ग्रहण दोष यंत्र

Surya Rahu Grahan Dosh Yantra - Copper

  • ग्रहण दोष के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है।
  • राहु के प्रभाव को शांत करता है और सौभाग्य के कारक को बढ़ाता है।
  • बाधाओं और दुर्भाग्य से बचाता है।
  • आत्मविश्वास बढ़ाता है और कॅरियर के विकास में मदद करता है।
  • वरिष्ठों और परिवार के बुजुर्ग सदस्यों के साथ संबंधों में सुधार करता है।
  • जीवन में बेचैनी और चिंता के कारणों को दूर करने में मदद करता है।
  • आपके संकल्प के आधार पर वैयक्तिकृत यंत्र उपलब्ध।
  • विशेषज्ञ पंडितों द्वारा शुद्ध, ऊर्जावान और अनुकूलित
  • 100% प्रामाणिक और वास्तविक यंत्र

1,499

सूर्य राहु ग्रहण दोष तब होता है जब जन्म कुंडली में सूर्य और राहु एक ही घर में होते हैं। इस युति का जातक के जीवन पर गहरा प्रभाव होता है। सूर्य राहु ग्रहण दोष जीवन के कई क्षेत्रों में कई बाधाओं, अड़चनों, तनाव और दु:ख का कारण बनता है।

दूसरी ओर, सूर्य-राहु ग्रहण दोष उनके प्लेसमेंट और संयोजन की डिग्री के आधार पर अलग-अलग परिणाम देता है। सूर्य राहु ग्रहण दोष निवारण पूजा इस दोष के प्रतिकूल प्रभावों का मुकाबला करने के लिए सबसे शक्तिशाली वैदिक पद्धति है।

कॉपर प्लेटेड सूर्य-राहु ग्रहण दोष यंत्र की शक्ति, सामर्थ्य और लाभों को बढ़ाने के लिए, इसे MyPandit के विशेषज्ञ पंडितों द्वारा सटीक वैदिक अनुष्ठान करके सक्रिय और अनुकूलित किया जाता है।

  • वैदिक ज्योतिष के अनुसार, यदि सूर्य और राहु ग्रह एक ही घर में स्थित हों या किसी व्यक्ति की कुंडली में ये दोनों एक-दूसरे पर दृष्टि डालते रहे हों, तो इसे पूर्ण सूर्य ग्रहण दोष या सूर्य राहु ग्रहण दोष के रूप में भी जाना जाता है।
  • जब ग्रह सूर्य और केतु एक ही घर में हों या एक-दूसरे की दृष्टि में हों, तो इसे आंशिक सूर्य ग्रहण दोष या सूर्य केतु ग्रहण दोष के रूप में जाना जाता है।
  • ‘ग्रहण’ शब्द का अर्थ है -जैसे जब शक्तिशाली सूर्य ग्रहण से गुजरता है, तब यह पृथ्वी पर अंधकार का कारण बनता है। जन्म कुंडली में सूर्य ग्रहण दोष के कारण जातक को जीवन के कई पहलुओं में बाधाओं, अड़चनों, तनाव और दु:ख का सामना करना पड़ता है।
  • जैसा कि हम सभी जानते हैं, सूर्य को जीवन शक्ति, ऊर्जा और मार्मिकता के दाता के रूप में जाना जाता है।
  • ज्योतिषीय रूप से, सूर्य ग्रह शक्ति, अच्छे स्वास्थ्य, धन, नाम, प्रसिद्धि और जीवन में कई अन्य सकारात्मक चीजों के लिए खड़ा है। हालांकि, जन्म कुंडली में पूर्ण सूर्य ग्रहण दोष और आंशिक सूर्य ग्रहण दोष के साथ, सूर्य के लाभ बाधित होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप जीवन में विभिन्न समस्याएं और कठिनाइयां आती हैं।
  • सूर्य ग्रहण दोष के अन्य उपायों में से एक है, हर सुबह सूर्य को जल चढ़ाना और सूर्य मंत्र, आदित्य हृदय स्तोत्र, या गायत्री मंत्र का जाप। जब किसी व्यक्ति का जन्म ग्रहण के दिन होता है, तो यह भी ग्रहण दोष माना जाता है।

सूर्य राहु ग्रहण दोष यंत्र कैसे काम करता है?

  • हमारे यंत्र प्रामाणिक और सही तरह से बनाए गए हैं, इसलिए उन पर ज्यामितीय पैटर्न स्पष्ट और सहायक रूप में हैं, जिससे आपको अपनी समस्या को हल करने या किसी विशिष्ट ग्रह को सक्रिय करने में मदद मिलती है।
  • आप अपने लिए एक यंत्र लेने से पहले किसी ज्योतिषी से बात कर सकते हैं – यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको एक ऐसा यंत्र मिले जो आपकी स्थिति और राशिफल के लिए 100% उपयुक्त और फलदायक हो।
  • हम आपको यंत्र भेजने से पहले न केवल इस यंत्र को ऊर्जावान और अनुकूलित करेंगे, बल्कि आपको यंत्र की स्थापना के बारे में स्पष्ट दिशा-निर्देश भी देंगे।

परिवहन विवरण

हमारे सभी शिपमेंट प्रतिष्ठित कूरियर सेवाओं के माध्यम से भेजे जाते हैं,जो पहुंचने में भारत के भीतर 3 से 7 वर्किंग डेज़ और अंतरराष्ट्रीय शिपिंग के लिए 7 से 15 वर्किंग डेज़ लेते हैं।

*कुछ उत्पादों में एक संबद्ध छवि या फ़ोटो हो सकती है। ये केवल संदर्भ के लिए हैं और इन्हें उत्पाद का उदाहरण मात्र माना जाना चाहिए।

मेरी शादीशुदा जिंदगी इस वक्त काफी खराब दौर से गुजर रही है। चीजों को बेहतर बनाने के लिए मुझे किस यंत्र की पूजा करनी चाहिए?

आपके वैवाहिक जीवन में समस्याएं आपकी कुंडली में विभिन्न प्रकार के ग्रहों के संयोजन के कारण हो सकती हैं। इसलिए, आपको यह सलाह दी जाती है कि आप अपनी वैवाहिक समस्याओं के सटीक कारण को जानने के लिए अपनी कुंडली का विश्लेषण करवाएं।

यंत्र कैसे काम करता है?

यंत्र दैवीय प्रतीक या वैज्ञानिक आधार वाले ताबीज जैसे होते हैं। वे अक्सर ज्यामितीय पैटर्न के आधार पर बने होते हैं जो आपके लक्ष्य में आपकी सहायता करने वाले सकारात्मक ऊर्जा क्षेत्रों को निर्मित करते हैं। एक यंत्र का ऊर्जा क्षेत्र उस वातावरण में फैलता है जिसमें उसकी पूजा की जाती है और यह ऊर्जा उस वातावरण में लोगों को प्रभावित करता है।

क्या यंत्र का उपयोग करने से पहले किसी विशेषज्ञ की राय लेना आवश्यक है?

कुछ यंत्र, जैसे श्रीयंत्र, सभी कारणों के लिए उपयुक्त हैं और बिना किसी असमंजस के उपयोग किए जा सकते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि विशेषज्ञ की राय आवश्यक नहीं है। किसी यंत्र को स्थापित करने से पहले विशेषज्ञ की सलाह लेना आवश्यक है, खासकर यदि यह किसी विशेष उद्देश्य के लिए हो। तत्काल परिणाम प्राप्त करने के लिए, किसी विशेष ग्रह या अपने जीवन के विशिष्ठ क्षेत्र को सक्रिय करने के लिए, या किसी विशेष समस्या को हल करने के लिए, आपको लक्षित यंत्रों की आवश्यकता होती है, जिनका उपयोग विशेषज्ञ मार्गदर्शन और अनुकूलन के बिना नहीं किया जाना चाहिए।

मुझे केवल पूजा/सम्मत यंत्र ही क्यों प्राप्त करना चाहिए?

जैसा कि पहले कहा गया है एक यंत्र, ऊर्जा क्षेत्रों के सिद्धांत पर कार्य करता है, इसलिए इसका आपको पूर्ण लाभ प्रदान करने के लिए इसे ठीक से साफ, पवित्र, सक्रिय और अनुकूलित होना जरूरी है। यदि आप अपने पूजा स्थल पर स्थापित यंत्र का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको नियमित रूप से इसकी पूजा और पवित्रीकरण करना चाहिए। एक गैर-पूजित/ गैर-संयोजित यंत्र आत्मा से रहित शरीर के समान होता है – एक यंत्र को उचित अनुष्ठानों के माध्यम से सक्रिय किया जाना चाहिए।