Sale!
Surya Mangal Angarak Dosha Puja

Surya Mangal Angarak Dosha Puja

  • Removes the negative influence of Angarak Dosha
  • Pacifies the effects of Mangal and enhances the luck factor
  • Gets protection against disharmony and disputes in family
  • Helps channelise aggression in the right direction to achieve success
  • Improvises relationship with near and dear ones
  • Overcomes issues of restlessness and negative feelings due to anger
  • Personalised Puja Based On Your Sankalp
  • Attend Live Vedic Puja
  • Expert Team Of Vedic Pandits
  • Authentic Online Puja At Your Convenience

41,999

जब जन्म कुंडली में सूर्य और मंगल एक ही भाव में होते हैं तो अंगारक दोष होता है। इस युति का जातक के जीवन पर गहरा और महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।

सूर्य मंगल अंगारक दोष वाले लोग अपने अत्यधिक मुखर और आक्रामक स्वभाव के कारण अपने जीवन के लगभग हर महत्वपूर्ण पहलू में समस्याओं और बाधाओं का सामना कर सकते हैं। दूसरी ओर, सूर्य-मंगल अंगारक दोष उनके स्थान और संयोजन की डिग्री के आधार पर अलग-अलग प्रभाव डालता है। सूर्य मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा इस दोष के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए सबसे शक्तिशाली वैदिक पद्धति है।

  • – जब भी जातक की कुंडली के किसी भी घर में मंगल राहु या सूर्य मंगल दोष मौजूद हो तो उसे यह पूजा करनी ही चाहिए।
  • – मंगल राहु / सूर्य मंगल दोष, जिसे कुंडली में अंगारक योग के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब मंगल और राहु, या सूर्य और मंगल, कुंडली के एक ही घर में होते हैं।
  • – कुछ ज्योतिषियों के अनुसार, यह दोष तब भी बनता है, जब मंगल और राहु एक-दूसरे पर दृष्टि डाल रहे हों या जब मंगल और केतु एक साथ हों।
  • – एक विशिष्ट मंगल राहु अंगारक दोष तभी बन सकता है जब दोनों को स्पष्ट रूप से एक साथ रखा जाए।
  • – यह मंगल राहु या सूर्य मंगल दोष (अंगारक दोष) एक अत्यधिक हानिकारक योग है जो किसी व्यक्ति के जीवन में जबरदस्त कठिनाइयों का कारण बन सकता है, खासकर अगर ग्रह मंगल और राहु कुंडली में हानिकारक हैं। इस प्रकार इस दोष के लिए एक उपचारात्मक पूजा की जानी चाहिए।

सूर्य मंगल अंगारक दोष पूजा कैसे काम करती है?

  • – सूर्य मंगल अंगारक का औपचारिक नाम सूर्य मंगल अंगारक है। दोष निवारण पूजा में कलश की पूजा और अन्य पांच आवश्यक देवताओं की पूजा शामिल है, जिनमें गणेश, शिव, मातृका, नवग्रह और प्रधान-देवता शामिल हैं।
  • – पूजा के दौरान सूर्य मंत्र के 7000 और मंगल बीज मंत्र का जाप किया जाता है।
  • – फिर, एक होम (हवन) अनुष्ठान किया जाता है जिसमें घी, तिल, जौ और भगवान सूर्य और मंगल से जुड़ी अन्य पवित्र सामग्री अग्नि को अर्पित की जाती है। वहीं 700 सूर्य मंत्र और 1000 मंगल मंत्रों का पाठ किया जाता है।
  • – किसी कुंडली से अंगारक दोष के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए यज्ञ व होम एक आवश्यक उपाय है।
  • – सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, पूजा निकटतम सर्वोत्तम मुहूर्त पर, अर्थात मंगल या सूर्य नक्षत्र में या रविवार के दिन की जाएगी।
  • – पूजा Mypandit द्वारा नियुक्त 5 पुजारियों और गुरु पंडित की देखरेख में सूर्य मंगल अंगारक दोष पूजा के अपार ज्ञान के साथ की जाती है।
  • शिपिंग डीटेल

पूजा के बाद यंत्र, यज्ञ भस्म और पेंडेंट को कूरियर सेवा के माध्यम से आपके द्वारा उपलब्ध पते पर पहुंचा दिया जाता है। इन वस्तुओं की डिलीवरी भारत में 5 से 10 कार्य दिवस और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग 10 से 15 कार्य दिवस में प्राप्त हो जाती हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  • – पूजा कैसे होगी?

पूजा निम्नलिखित तरीके से की जाएगी:-

    • – आपके द्वारा सूर्य मंगल अंगारक दोष पूजा के लिए बुकिंग करने के बाद आपकी पूजा से संबंधित संपूर्ण जानकारी वरिष्ठ आचार्य से साझा की जाएगी।
    • – इसके बाद आचार्य आपकी निजीकृत पूजा के लिए एक उपयुक्त पंडित का चुनाव करेंगे और उचित समय का निर्धारण करेंगे। आपकी पूजा के लिए चयनित पंडित निर्धारित समय पर सिर्फ आपके लिए ही पूजा करेंगे।
    • – आपके लिए निर्धारित पंडित के साथ आपकी संपूर्ण जानकारी साझा की जाएगी, जिसके आधार पर वे आपकी पूजा के अनुसार पूजा संकल्प तैयार करेंगे। पूजा संकल्प किसी भी वैदिक पूजा का सबसे महत्वपूर्ण अंग है, यह आपकी वांछित इच्छा को पूरा करता है। पूजा शुरू होने के पहले आपको एक फोन काॅल के माध्यम से पंडित जी के साथ जोड़ा जाएगा, जो आपको पूजा संकल्प दिलवाएंगे।
    • – यहीं से पूजा की शुरुआत होगी। आप गूगल मीट के माध्यम से इस पूजा में शामिल हो सकते हैं। जब पंडित जी पूजा कर रहे होंगे तब आपको अपने घर या मंदिर में किसी शांत स्थान पर बैठकर ओम नमः शिवाय मंत्र का निरंतर जाप करना होगा।
    • – पूजा संपन्न होने के बाद पंडित जी द्वारा आपको पुनः काॅल किया जाएगा, और पूजा के दौरान एकत्र की गई सकारात्मक उर्जा आपको हस्तांतरित कर दी जाएगी। इस पद्धति को श्रेय दान या संकल्प पूर्ति के नाम से जाना जाता है। इस प्रक्रिया के बाद पूजा संपन्न हो जाती है।
  • क्या मेरी शारीरिक उपस्थिति की आवश्यकता होगी?

नहीं, इस प्रक्रिया की खूबसूरती यही है कि पूजा करते समय आपको शारीरिक रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।

  • इस पूजा को करने के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

सूर्य मंगल अंगारक दोष पूजा करने के लिए हमें आपसे निम्नलिखित की जानकारियों की आवश्यकता होगी।

पूरा नाम, गोत्र (अनिवार्य नहीं), निवास का वर्तमान शहर जिसमें राज्य, देश और उद्देश्य का विवरण आदि शामिल हैं।

  • पूजा कितनी देर चलेगी?

आम तौर पर, इसमें लगभग 5 से 6 घंटे लगते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए जाप करने की सलाह दी जाती है।

  • आप मेरे लिए पूजा को कैसे निजीकृत करते हैं?

हम आपके लिए पूजा को निम्नलिखित तरीके से निजीकृत करते हैं –

    • – आपकी पूजा करने के लिए एक समर्पित पंडितजी को आवंटित किया जाता है। लगभग 5 से 6 घंटे तक वह केवल आपके लिए पूजा करते हैं।
    • – आप गूगल मीट के जरिए भी इस पूजा में लाइव शामिल हो सकते हैं। आपके द्वारा दिया गया उद्देश्य का कथन संकल्प का आधार है जिसे आपके पंडित जी आपकी पूजा शुरू होने से पहले आपको उच्चारित करने के लिए कहते हैं।
    • – पूजा के अंत में, आपको प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न आध्यात्मिक ऊर्जा को हस्तांतरित करने के लिए एक और फोन काॅल किया जाता है। इस प्रक्रिया को श्रेय दान या संकल्प पूर्ति के रूप में जाना जाता है।
  • इस पूजा को करने के बाद मैं कब परिणाम की उम्मीद कर सकता हूं?

सूर्य मंगल अंगारक दोष पूजा एक शक्तिशाली अनुष्ठान है जो बहुत सारी सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करता है। आपके “संकल्प” या उद्देश्य के कथन की शक्ति इसकी प्रभावशीलता को प्रभावित करती है। जब यह पूजा पूरी लगन और आत्मविश्वास के साथ की जाती है, तो आप 2 से 3 महीने में परिणाम की उम्मीद कर सकते हैं।

  • क्या मैं यह पूजा नियमित रूप से कर सकता हूं?

हां, यह पूजा मुख्य रूप से निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए नियमित रूप से की जा सकती है –

    • – यदि संकल्प या उद्देश्य का कथन बहुत बड़ा है, तो आपके रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए आपको पर्याप्त आध्यात्मिक ऊर्जा देने के लिए केवल एक पूजा पर्याप्त नहीं हो। वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको मासिक आधार पर पूजा दोहरानी पड़ सकती है।
    • – यदि ग्रहों की युति के नकारात्मक प्रभाव बहुत अधिक हों, तो आध्यात्मिक ऊर्जा की आवश्यकता अधिक होती है और उस स्थिति में भी पूजा की जा सकती है ।
    • – यदि आपकी जन्म कुंडली में कोई दोष या नकारात्मक प्रभाव है, तब तो वार्षिक आधार पर की जाने वाली पूजा भी आपके लिए अद्भुत काम कर सकती है।

आपकी स्थिति के आधार पर, परिणाम प्राप्त करने में कुछ महीने लग सकते हैं, लेकिन इसे नियमित रूप से करने से आपके लिए एक सकारात्मक रक्षा कवच का निर्माण होता है।

  • क्या पूजा करना रत्न, यंत्र या रुद्राक्ष जैसे अन्य उपायों से बेहतर है?

सामान्यतया, रत्न और रुद्राक्ष का उद्देश्य आजीवन होता है। जब वे पहने जाते हैं तो वे किसी विशेष ग्रह की शक्ति को बढ़ाते हैं। वहीं पूजा संबंधित ग्रह की ऊर्जा को सही दिशा में पुनर्निर्देशित और वांछित परिणाम प्राप्त करने के साथ ही किसी विशेष उद्देश्य की पूर्ति के लिए की जाती है। रत्न या रुद्राक्ष धारण करने और पूजा करने का संयोजन बहुत शक्तिशाली है, खासकर जब आप एक बड़ा लक्ष्य प्राप्त करना चाहते हैं या प्रतिकूल ग्रहों के संयोजन के नकारात्मक प्रभावों से बचना चाहते हैं।

  • क्या इस पूजा से मेरे परिवार वालों को भी मदद मिलेगी?

हां, यह आपके परिवार के सदस्यों, पड़ोसियों, दोस्तों, परिचितों, संक्षेप में आप से संबंधित सभी की मदद कर सकती है। हालांकि, पूजा से पहले आपको यह सलाह दी जाती है कि आप आपनी जन्म कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिष द्वारा अच्छे से विश्लेषण करवाएं ताकि यह जांचा जा सके कि विशेष ग्रह शांति पूजा आपके लिए आवश्यक है या नहीं।