Sale!
सूर्य केतु ग्रहण दोष पूजा के बारे में विस्तृत रूप से जानिए!

Surya Ketu Grahan Dosha Puja

  • – ग्रहण दोष के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है।
  • – केतु के प्रभाव को शांत करता है और भाग्य कारक को बढ़ाता है।
  • – झूठे मुकदमों से सुरक्षा मिलती है।
  • – सामाजिक अलगाव को दूर करने में मदद करता है।
  • – आत्मविश्वास बढ़ाता है और आपके करियर के विकास में सुधार करता है।
  • – व्यक्तिगत और व्यावसायिक संबंधों में सुधार करता है।
  • – जीवन में क्रोध और असंतोष के मुद्दों को दूर करने में मदद करता है।
  • – आपके संकल्प के आधार पर निजीकृत पूजा।
  • – लाइव वैदिक पूजा में शामिल हों।
  • – वैदिक पंडितों की विशेषज्ञ टीम।
  • – आपकी सुविधानुसार प्रामाणिक ऑनलाइन पूजा।

41,999

जब जन्म कुंडली में सूर्य और केतु एक ही घर में होते हैं, तो ग्रहण दोष बनता है। इस युति का प्रभाव जातक के जीवन पर गहरा प्रभाव डालता है।

सूर्य केतु ग्रहण दोष वाले जातक अपने पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन में बुद्धिमान और सम्मानित होते हैं। हालांकि, उन्हें जीवन के कई अन्य क्षेत्रों जैसे सामाजिक मेलभाव की कमी, झूठे मुकदमे, गंभीर चोटें, अकेलेपन और असंतोष की सामान्य भावना जैसे मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है।

सूर्य-केतु ग्रहण दोष उनके प्लेसमेंट और संयोजन की डिग्री के आधार पर अलग-अलग परिणाम देता है। सूर्य केतु ग्रहण दोष निवारण पूजा इस दोष के प्रतिकूल प्रभावों को दूर करने के लिए सबसे शक्तिशाली वैदिक पद्धति है।

  • – पूर्ण सूर्य ग्रहण दोष, जिसे सूर्य राहु ग्रहण दोष के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य और राहु ग्रह एक ही घर में होते हैं।
  • – आंशिक सूर्य ग्रहण दोष या सूर्य केतु ग्रहण दोष तब होता है जब सूर्य और केतु एक ही घर में होते हैं।
  • – ग्रहण शब्द का अर्थ है साया या डूबने से लगाया जा सकता है। जब शक्तिशाली सूर्य ग्रहण से गुजरता है, तो यह पृथ्वी पर अंधकार का कारण बनता है। जन्म कुंडली में सूर्य ग्रहण दोष के कारण जातक को जीवन के कई पहलुओं में बाधाओं, परेशानियों, तनाव और नाखुशी का सामना करना पड़ता है।
  • – सूर्य को जीवन शक्ति, ऊर्जा और जीवन शक्ति के स्रोत के रूप में जाना जाता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य शक्ति, अच्छे स्वास्थ्य, धन, नाम, प्रसिद्धि और जीवन के कई अन्य सकारात्मक पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता है। हालांकि, जन्म कुंडली में पूर्ण सूर्य ग्रहण दोष और आंशिक सूर्य ग्रहण दोष सूर्य के लाभों में बाधा डालते हैं, जिसके परिणामस्वरूप जीवन में कई तरह की समस्याएं और कठिनाइयां आती हैं।
  • – सूर्य ग्रहण दोष का एक और उपाय है सूर्य को जल अर्पित करना और सूर्य मंत्र, आदित्य हृदय स्तोत्र, या गायत्री मंत्र का पाठ करना। ग्रहण दोष तब भी माना जाता है जब किसी व्यक्ति का जन्म किसी ग्रहण के दिन होता है।

सूर्य केतु ग्रहण दोष पूजा कैसे काम करती है?

  • – सूर्य केतु ग्रहण दोष निवारण पूजा में कलश और पांच अन्य आवश्यक देवताओं की पूजा शामिल है, जिनमें गणेश, शिव, मातृका, नवग्रह, और प्रधान-देवता, यानी केतु और सूर्य शामिल हैं।
  • – पूजा के दौरान सूर्य के 7000 और केतु के 17000 बीज मंत्रों का जाप व पाठ किया जाता है। फिर, एक होमा (हवन) अनुष्ठान किया जाता है जिसमें घी, सीसम, जौ और भगवान सूर्य और केतु से संबंधित अन्य पवित्र सामग्री को 700 सूर्य मंत्रों और 1700 केतु मंत्रों का पाठ करते हुए अग्नि को अर्पित किया जाता है।
  • – किसी कुंडली में ग्रह दोष के हानिकारक प्रभावों को दूर करने के लिए यज्ञ व होम एक आवश्यक उपाय है।
  • – सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, पूजा निकटतम सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त पर, यानी केतु या सूर्य नक्षत्र में और रविवार को की जाएगी।
  • – पूजा Mypandit द्वारा नियुक्त 5 पुजारियों और गुरु पंडित की देखरेख में सूर्य केतु ग्रहण दोष पूजा के अपार ज्ञान के साथ की जाती है।

शिपिंग डीटेल

पूजा के बाद यंत्र, यज्ञ भस्म और पेंडेंट को कूरियर सेवा के माध्यम से आपके द्वारा उपलब्ध पते पर पहुंचा दिया जाता है। इन वस्तुओं की डिलीवरी भारत में 5 से 10 कार्य दिवस और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग 10 से 15 कार्य दिवस में प्राप्त हो जाती हैं।

FAQs are not available!