Sale!
Chandra Ketu Grahan Dosha Puja ( चंद्र केतु ग्रहण दोष पूजा )

Chandra Ketu Grahan Dosha Puja

  • ग्रहण दोष के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है
  •  केतु के प्रभाव को शांत करता है और सकारात्मक सोच को बढ़ाता है।
  •  अवसाद और विकृत सोच से बाहर आने में मदद करता है।
  •  व्यक्तिगत संबंधों और विश्वास में सुधार करता है।
  •  भय के मुद्दों को दूर करने में मदद करता है और जीवन से नकारात्मकता को दूर करता है।
  •  आपकी सकारात्मक सोच को बढ़ाता है और आपको एक आशावादी दृष्टिकोण रखने की अनुमति देता है।
  •  आपके संकल्प (वांछित इच्छा) के आधार पर व्यक्तिगत पूजा
  •  लाइव वैदिक पूजा में शामिल हों।
  •  वैदिक पंडितों की विशेषज्ञ टीम
  •  आपकी सुविधानुसार प्रामाणिक ऑनलाइन पूजा

41,999

चंद्र केतु ग्रहण दोष तब होता है जब चंद्रमा और केतु जन्म कुंडली के एक ही घर में स्थित होते हैं। चंद्रमा मन और भावनाओं का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि केतु वैराग्य, एकांत, क्रोध और शून्यता का प्रतीक है। इस संयोजन का एक शक्तिशाली नकारात्मक प्रभाव है जो जातक के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। नतीजतन, चंद्र केतु ग्रहण दोष वाले लोग भावनात्मक रूप से अस्थिर, उदास और परेशान रहते है।

चंद्र-केतु ग्रहण दोष के प्रभाव चंद्र और केतु के कुंडली में स्थान और संयोजन की डिग्री के आधार पर भिन्न होते हैं। लेकिन यह बात अवश्य निश्चित है कि इसके परिणाम जीवन को अप्रत्याशित आतंक की ओर ले जाते हैं। चंद्र केतु ग्रहण दोष निवारण पूजा इस दोष के प्रभाव को दूर करने के लिए सबसे शक्तिशाली वैदिक उपाय है।

 जब किसी जन्म कुंडली का चंद्रमा राहु या केतु के साथ हो या चंद्रमा नीच राशि का हो या नीच ग्रहों, अशुभ या पाप ग्रहों से घिरा हो, तो इसे चंद्र ग्रहण दोष के रूप में भी जाना जाता है। इस दोष को दूर करने के लिए शालिग्राम शीला पूजा और यज्ञ सेवाएं चंद्र ग्रहण दोष निवारण पूजा करने की सलाह देती हैं। इसके अथवा यदि किसी व्यक्ति का जन्म ग्रहण के दिन होता है, तब भी ग्रहण दोष का प्रभाव देखा जाता है।

 पूर्ण ग्रहण दोष तब होता है जब चंद्रमा और केतु ग्रह एक ही घर में स्थित होते हैं।

 आंशिक चंद्र ग्रहण दोष तब होता है जब चंद्रमा और राहु एक ही घर में मौजूद होते हैं।

 चंद्र ग्रहण दोष वाले लोग आत्मविश्वास की कमी, भावनात्मक अस्थिरता, रिश्ते की समस्याओं और चिंताओं का अनुभव करते हैं। ग्रह दोष निवारण पूजा तनाव, चुनौतियों और आपदाओं पर काबू पाने में एक व्यक्ति की सहायता करती है। यह पूजा आत्मविश्वास, शक्ति और संतोष की प्राप्ति में सहायता करती है। इस पूजा अनुष्ठान के बाद व्यक्ति के सामने एक स्पष्ट खुला मार्ग होता है और वह करियर व व्यक्तिगत जीवन में सफलता प्राप्त करता है।

 यह पूजा आपके बंद पड़े महत्वपूर्ण कार्यों को पुनः मार्ग पर लाने का कार्य करती है। इस पूजा के प्रभाव से सभी अवरुद्ध कार्य पूर्ण होते हैं। इसके माध्यम से हम सभी प्रकार की शारीरिक और मानसिक चिंताओं को दूर कर सकते हैं। यह पूजा कुंडली में मौजूद चंद्र ग्रहण दोष को कम करती है। चंद्र ग्रह दोष से छुटकारा पाने के लिए चंद्र देव और भगवान शिव की पूजा करें।

चंद्र केतु ग्रहण दोष पूजा कैसे काम करती है?

कलश पूजा सहित अन्य पांच आवश्यक देवताओं जैसे गणेश, शिव, मातृका, नवग्रह, और प्रधान-देवता यानी केतु और चंद्र, की पूजा शामिल है।

 पूजा में चंद्र बीज मंत्र का 11000 बार और केतु बीच मंत्र का 17000 बार जाप व पाठ करना शामिल है। फिर, एक होम अर्थात हवन अनुष्ठान किया जाता है जिसमें घी, तिल, जौ और भगवान चंद्रमा और केतु से जुड़ी अन्य पवित्र वस्तुएं 1100 चंद्र मंत्र और 1700 केतु मंत्रों का पाठ करते हुए अग्नि को अर्पित की जाती हैं।

 आपके चार्ट में ग्रह दोष के नकारात्मक प्रभावों को दूर करने के लिए यज्ञ या हवन एक आवश्यक उपाय हो सकता है।

 चंद्र केतु ग्रहण दोष पूजा सबसे नजदीकी चंद्र या केतु नक्षत्र के दौरान की जाती है जोकि एक सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त होता है। 

 पूजा My Pandit द्वारा नियुक्त 5 पुजारियों और गुरु पंडित की देखरेख में चंद्र केतु ग्रहण दोष के अपार ज्ञान के साथ की जाती है।

शिपिंग डीटेल

पूजा के बाद यंत्र, यज्ञ भस्म और पेंडेंट को कूरियर सेवा के माध्यम से आपके द्वारा उपलब्ध पते पर पहुंचा दिया जाता है। इन वस्तुओं की डिलीवरी भारत में 5 से 10 कार्य दिवस और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग 10 से 15 कार्य दिवस में प्राप्त हो जाती हैं।

पूजा कैसे होगी?

पूजा निम्नलिखित तरीके से की जाएगी: 

 आपके द्वारा चंद्र केतु ग्रहण दोष पूजा के लिए बुकिंग करने के बाद आपकी पूजा से संबंधित संपूर्ण जानकारी वरिष्ठ आचार्य से साझा की जाएगी।

  इसके बाद आचार्य आपकी निजीकृत पूजा के लिए एक उपयुक्त पंडित का चुनाव करेंगे और उचित समय का निर्धारण करेंगे। आपकी पूजा के लिए चयनित पंडित निर्धारित समय पर सिर्फ आपके लिए ही पूजा करेंगे।

 आपके लिए निर्धारित पंडित के साथ आपकी संपूर्ण जानकारी साझा की जाएगी, जिसके आधार पर वे आपकी पूजा के अनुसार पूजा संकल्प तैयार करेंगे। पूजा संकल्प किसी भी वैदिक पूजा का सबसे महत्वपूर्ण अंग है, यह आपकी वांछित इच्छा को पूरा करता है। पूजा शुरू होने के पहले आपको एक फोन काॅल के माध्यम से पंडित जी के साथ जोड़ा जाएगा, जो आपको पूजा संकल्प दिलवाएंगे।

 यहीं से पूजा की शुरुआत होगी। आप गूगल मीट के माध्यम से इस पूजा में शामिल हो सकते हैं। जब पंडित जी पूजा कर रहे होंगे तब आपको अपने घर या मंदिर में किसी शांत स्थान पर बैठकर मृत्युंजय महादेव त्राहिमं शरणागतम् जन्म मृत्यु जरा व्याधि पिदितम कर्म बंधनें मंत्र का निरंतर जाप करना होगा।

 पूजा संपन्न होने के बाद पंडित जी द्वारा आपको पुनः कॉल किया जाएगा, और पूजा के दौरान एकत्र की गई सकारात्मक ऊर्जा आपको हस्तांतरित कर दी जाएगी। इस पद्धति को श्रेय दान या संकल्प पूर्ति के नाम से जाना जाता है। इस प्रक्रिया के बाद पूजा संपन्न हो जाती है।

क्या मेरी शारीरिक उपस्थिति की आवश्यकता होगी?

नहीं, इस प्रक्रिया की खूबसूरती यही है कि पूजा करते समय आपको शारीरिक रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।

इस पूजा को करने के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चंद्र केतु ग्रहण दोष पूजा करने के लिए हमें आपसे निम्नलिखित की जानकारियों की आवश्यकता होगी।

पूरा नाम, गोत्र (अनिवार्य नहीं), निवास का वर्तमान शहर जिसमें राज्य, देश और उद्देश्य का विवरण आदि शामिल हैं।

केतु पूजा कितनी देर चलेगी?

आम तौर पर, इसमें लगभग 5 घंटे लगते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए जाप करने की सलाह दी जाती है।

आप मेरे लिए पूजा को कैसे निजीकृत करते हैं?

हम आपके लिए पूजा को निम्नलिखित तरीके से निजीकृत करते हैं  

 आपकी पूजा करने के लिए एक समर्पित पंडित जी को आवंटित किया जाता है। लगभग 5 घंटे तक वह केवल आपके लिए पूजा करते हैं। 

 आप गूगल मीट के जरिए भी इस पूजा में लाइव शामिल हो सकते हैं। आपके द्वारा दिया गया उद्देश्य का कथन संकल्प का आधार है जिसे आपके पंडित जी आपकी पूजा शुरू होने से पहले आपको उच्चारित करने के लिए कहते हैं। 

 पूजा के अंत में, आपको प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न आध्यात्मिक ऊर्जा को हस्तांतरित करने के लिए एक और फोन काॅल किया जाता है। इस प्रक्रिया को श्रेय दान या संकल्प पूर्ति के रूप में जाना जाता है।

इस पूजा को करने के बाद मैं कब परिणाम की उम्मीद कर सकता हूं?

चंद्र केतु ग्रहण दोष पूजा एक शक्तिशाली अनुष्ठान है जो बहुत सारी सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करता है। आपके “संकल्प” या उद्देश्य के कथन की शक्ति इसकी प्रभावशीलता को प्रभावित करती है। जब यह पूजा पूरी लगन और आत्मविश्वास के साथ की जाती है, तो आप 2 से 3 महीने में परिणाम की उम्मीद कर सकते हैं।

क्या मैं यह पूजा नियमित रूप से कर सकता हूं?

हां, यह पूजा मुख्य रूप से निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए नियमित रूप से की जा सकती है  

 यदि संकल्प या उद्देश्य का कथन बहुत बड़ा है, तो आपके रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए आपको पर्याप्त आध्यात्मिक ऊर्जा देने के लिए केवल एक पूजा पर्याप्त नहीं हो। वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको मासिक आधार पर पूजा दोहरानी पड़ सकती है।

 यदि ग्रहों की युति के नकारात्मक प्रभाव बहुत अधिक हों, तो आध्यात्मिक ऊर्जा की आवश्यकता अधिक होती है और उस स्थिति में भी पूजा की जा सकती है ।

 यदि आपकी जन्म कुंडली में कोई दोष या नकारात्मक प्रभाव है, तब तो वार्षिक आधार पर की जाने वाली पूजा भी आपके लिए अद्भुत काम कर सकती है। 

आपकी स्थिति के आधार पर, परिणाम प्राप्त करने में कुछ महीने लग सकते हैं, लेकिन इसे नियमित रूप से करने से आपके लिए एक सकारात्मक रक्षक कवच का निर्माण होता है।

क्या पूजा करना रत्न, यंत्र या रुद्राक्ष जैसे अन्य उपायों से बेहतर है?

सामान्यतः, रत्न और रुद्राक्ष का उद्देश्य आजीवन होता है। जब वे पहने जाते हैं तो वे किसी विशेष ग्रह की शक्ति को बढ़ाते हैं। वहीं पूजा संबंधित ग्रह की ऊर्जा को सही दिशा में पुनर्निर्देशित और वांछित परिणाम प्राप्त करने के साथ ही किसी विशेष उद्देश्य की पूर्ति के लिए की जाती है। रत्न या रुद्राक्ष धारण करने और पूजा करने का संयोजन बहुत शक्तिशाली है, खासकर जब आप एक बड़ा लक्ष्य प्राप्त करना चाहते हैं या प्रतिकूल ग्रहों के संयोजन के नकारात्मक प्रभावों से बचना चाहते हैं।

क्या इस पूजा से मेरे परिवार वालों को भी मदद मिलेगी?

हां, यह आपके परिवार के सदस्यों, पड़ोसियों, दोस्तों, परिचितों, संक्षेप में आप से संबंधित सभी की मदद कर सकती है। हालांकि, पूजा से पहले आपको यह सलाह दी जाती है कि आप आपनी जन्म कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिष द्वारा अच्छे से विश्लेषण करवाएं ताकि यह जांचा जा सके कि विशेष ग्रह शांति पूजा आपके लिए आवश्यक है या नहीं।