Sale!
सूर्य-मंगल अंगारक योग निवारण यंत्र- कॉपर

Surya-Mangal Angarak Yog Nivaran Yantra - Copper

  • यह यंत्र अंगारक दोष के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है।
  • मंगल के प्रभाव को शांत करता है और भाग्य को बढ़ाता है।
  • परिवार में कलह और विवाद से बचाता है।
  • सही दिशा में आक्रामक बनाकर सफलता प्राप्त करने में मदद करता है।
  • अपनों के साथ संबंधों में सुधार करता है।
  • बेचैनी दूर करने में मदद करता है।
  • आपके संकल्प के आधार पर निजी यंत्र
  • विशेषज्ञ पंडितों द्वारा शुद्ध, ऊर्जावान और अनुप्रमाणित
  • 100% प्रामाणिक और वास्तविक यंत्र

1,499

जब जन्म कुंडली में सूर्य और मंगल एक ही घर में होते हैं, तब सूर्य मंगल अंगारक दोष तब बनता है। इस युति का प्रभाव शक्तिशाली होता है और जातक के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है।

सूर्य मंगल अंगारक दोष से पीड़ित व्यक्ति के अत्यधिक मुखर और आक्रामक स्वभाव के कारण जीवन के लगभग सभी आवश्यक पहलुओं में समस्याओं और बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि, सूर्य-मंगल अंगारक दोष उनके स्थान और संयोजन की डिग्री के आधार पर अलग-अलग परिणाम देते हैं। सूर्य-मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा दोष के बुरे प्रभावों को समाप्त करने का सबसे प्रभावी वैदिक तरीका है।

कॉपर प्लेटेड चंद्र-राहु ग्रहण दोष यंत्र की शक्ति और लाभ को बढ़ाने के लिए, इसे MyPandit के विशेषज्ञ पंडितों द्वारा सख्त वैदिक अनुष्ठान कर सक्रिय और अनुशासित किया गया है।

अंगारक दोष तब होता है, जब जन्म कुंडली में सूर्य और मंगल एक ही भाव में हो। इस युति का जातक के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

अपने अत्यधिक मुखर और आक्रामक स्वभाव के कारण, सूर्य मंगल अंगारक दोष वाले लोगों को अपने जीवन के लगभग हर महत्वपूर्ण पहलू में समस्याओं और बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

हालांकि, सूर्य-मंगल अंगारक दोष, उनके स्थान और संयोजन की डिग्री के आधार पर अलग-अलग परिणाम देता है।

सूर्य मंगल अंगारक दोष निवारण यंत्र दोष के प्रतिकूल प्रभावों का प्रतिकार करने के लिए सबसे शक्तिशाली वैदिक पद्धति है।

अंगारक योग निवारण यंत्र कैसे काम करता है?

हमारे यंत्र प्रामाणिक और अच्छी तरह से डिज़ाइन किए गए हैं, ताकि उनमें स्पष्ट और सहायक ज्यामितीय पैटर्न हैं, जो आपकी समस्या को हल करने या किसी विशेष ग्रह को सक्रिय करने में आपकी सहायता करते हैं।

यंत्र प्राप्त करने से पहले, आप यह सुनिश्चित करने के लिए किसी ज्योतिषी से बात कर सकते हैं कि यंत्र आपके सामने आने वाली स्थिति और राशिफल के लिए केवल 100% उपयुक्त है।

यंत्र आपको भेजने से पहले उसे सक्रिय करने और स्थापित करने के अलावा, हम आपको स्पष्ट मार्गदर्शन भी देंगे, कि यंत्र को कैसे स्थापित किया जाता है।

परिवहन विवरण (यंत्र कैसे पहुंचेगा)

सभी शिपमेंट प्रतिष्ठित कूरियर सेवाओं के माध्यम से भेजे जाते हैं, जिसमें भारत में 3 से 7 व्यावसायिक दिन और अंतरराष्ट्रीय शिपिंग के लिए 7 से 15 व्यावसायिक दिन लगते हैं।

*कुछ उत्पादों में एक संबद्धित छवि या फोटो हो सकती है। ये केवल संदर्भ के लिए हैं और इन्हें उदाहरण के तौर पर लेना चाहिए।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मुझे सूर्य-मंगल अंगारक योग निवारण यंत्र खरीदना चाहिए या नहीं?

सूर्य-मंगल अंगारक योग तब बनता है, जब सूर्य और मंगल एक ही भाव में स्थित होता है। हालाँकि, आपको सूर्य-मंगल अंगारक योग निवारण यंत्र स्थापित करना चाहिए या नहीं, यह पूरी तरह से आपकी कुंडली में ग्रहों की स्थिति और इस दोष की तीव्रता पर निर्भर करता है। हम अनुशंसा करते हैं कि आप इस मामले पर अधिक स्पष्टता प्राप्त करने के लिए हमारे ज्योतिषी से परामर्श लें।

यंत्र कैसे काम करता है?

यंत्र दैवीय प्रतीक या वैज्ञानिक आधार वाले ताबीज की तरह हैं। वे अक्सर ज्यामितीय पैटर्न से बने होते हैं, जो आपके लक्ष्य प्राप्ति में आपकी सहायता करने वाली सकारात्मक ऊर्जाओं को फैलाते हैं। एक यंत्र का ऊर्जा क्षेत्र उस वातावरण में फैलता है, जिसमें उसकी पूजा की जाती है और उस वातावरण के लोगों को प्रभावित करता है।

क्या यंत्र का उपयोग करने से पहले किसी विशेषज्ञ की राय लेना आवश्यक है?

कुछ यंत्र, जैसे श्री यंत्र, सभी मुद्दों के लिए उपयुक्त हैं और बिना किसी हिचकिचाहट के उपयोग किए जा सकते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि विशेषज्ञ की राय मूल्यवान या आवश्यक नहीं है। वास्तव में, यंत्र प्राप्त करने या स्थापित करने से पहले विशेषज्ञ की राय लेना महत्वपूर्ण है, खासकर यदि यह विशिष्ट उद्देश्य के लिए है। तत्काल परिणाम प्राप्त करने के लिए, किसी विशेष ग्रह या अपने जीवन के क्षेत्र को सक्रिय करने के लिए, या किसी विशेष समस्या को हल करने के लिए, आपको लक्षित यंत्रों की आवश्यकता होती है, जिनका उपयोग विशेषज्ञ मार्गदर्शन के बिना नहीं किया जाना चाहिए।

मुझे केवल पूजा या सक्रिय किया हुआ यंत्र ही क्यों प्राप्त करना चाहिए?

जैसा कि पहले कहा गया है, कि यंत्र एक ऊर्जा क्षेत्र सिद्धांत पर कार्य करता है। आपको पूर्ण लाभ प्रदान करने के लिए इसे ठीक से साफ, पवित्र, सक्रिय और अभ्यस्त होना चाहिए। यदि आप अपने पूजा स्थल पर स्थापित यंत्र का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको नियमित रूप से इसकी पूजा और पवित्र करना चाहिए। अगर आप इसकी पूजा नहीं करते हैं, तो यह बिना आत्मा के शरीर जैसा है। इसका पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए यंत्र को उचित अनुष्ठानों के माध्यम से सक्रिय किया जाना चाहिए।